Khushboo Basi Usi Ki Hai 2022

Mujh Mein Khushboo Basi Usi Ki Hai, Jaise Ye Zindgi Usi Ki Hai. ”Wo Kahin Aas Paas Hai Maujood, Hu-Ba-Hu Yeh Hasee Usi Ki Hai.

Khushboo Basi Usi Ki Hai

Mujh Mein Khushboo Basi Usi Ki Hai,
Jaise Ye Zindgi Usi Ki Hai.
मुझ में ख़ुशबू बसी उसी की है,
जैसे ये ज़िंदगी उसी की है।

Wo Kahin Aas Paas Hai Mauzood,
Hu-Ba-Hu Yeh Hasee Usi Ki Hai.
वो कहीं आस-पास है मौजूद,
हू-ब-हू ये हँसी उसी की है।

Khushboo Basi Usi Ki Hai

Khushboo Basi Usi Ki Hai 2022

Khud Main Apna Dukha Raha Hoon Dil,
Iss Mein Lekin Khushi Usi Ki Hai.
ख़ुद में अपना दुखा रहा हूँ दिल,
इस में लेकिन ख़ुशी उसी की है।

Yaani Koyi Kami Nahi Mujh Mein,
Yaani Mujh Mein Kami Usi Ki Hai.
यानी कोई कमी नहीं मुझ में,
यानी मुझ में कमी उसी की है।

Khushboo Basi Usi Ki Hai

Kya Mere Khwab Bhi Nahi Mere,
Kya Meri Neend Bhi Usi Ki Hai?
क्या मेरे ख़्वाब भी नहीं मेरे,
क्या मेरी नींद भी उसी की है?