Kabiliyat Shayari 2022

दोस्तों, आज हमारे इस पोस्ट से आप अपनी Kabiliyat देखा सकते हैं क्युकी हमने निचे दुनिया भर से Behtreen Kabiliyat Shayari In Hindi With Images Collection के साथ डाली हैं जिसे अपने Whatsapp Status पर लगा कर अपनी Kabiliyat दुनिया को देखा सकते हैं दोस्तों, हमे और तुम मैं कोई न कोई Kabiliyat होती हैं जिसे हम इन Shayari के जरिये देखा सकते हैं बस आपको अपने पसंद की Kabiliyat Shayari In Urdu Image को Download और Copy करके. Facebook या Whatsapp पर Share करो. ताकि आपकी Kabiliyat Shayri को पता चले.

निचे आपको Kabiliyat Status In Hindi, 2 Line Kabiliyat Shayari, Kabiliyat Quotes In Hindi, Kabiliyat Images Free Download For Whatsapp DP And Fb. Kabiliyat Shayari In English, Two Line Kabiliyat Shayri. Friend, If You Show Yor Kabiliyat By Sharing This Shayari With Your Best Friends, Office, Home And Family, Every Shayari Are Unique Best Status On Kabiliyat, Shayari On Kabiliyat For Whatsapp. Success Shayari, Success Status In Hindi, Latest Success Quotes In Hindi

Kabiliyat Shayari

ना पूछो कि मेरी मंजिल कहाँ है,अभी तो सफर का इरादा किया है,ना हारूंगा हौंसला उम्र भर,ये मैंने किसी से नहीं खुद से वादा किया है…

अभी तो असली मंजिल पाना बाकी है,अभी तो इरादों का इम्तिहान बाकी है,तोली है मुट्ठी भर जमीन,अभी तोलना सारा आसमान बाकी है…

वो नापते रहेंगे तुम्हे खूबसूरती के पैमाने में,तुम अड़ी रहना खुद की काबिलियत आकने में।

होके मायूस ना आँगन से उखाड़ो ये पौधे,धूप बरसी है यहाँ तो बारिश भी यही पे होगी…

Kabiliyat Shayari

मुश्किलों से भाग जाना आसान होता है,हर पहलू जिंदगी का इम्तिहान होता है,डरने वालों को मिलता नहीं कुछ ज़िदगी में,लड़ने वालों के कदमों में जहान होता है…

अभी तो असली मंजिल पाना बाकी है,अभी तो इरादों का इम्तिहान बाकी है,तोली है मुट्ठी भर जमीन,अभी तोलना सारा आसमान बाकी है…

जिन्दगी में सफलता पाने के लिए,थोड़ा जोखिम उठाना पड़ता है,सीढ़ियाँ चढ़ते समय ऊपर जाने के लिए,नीचे की सीढ़ी से पैर हटाना पड़ता है…

Kabiliyat Shayari

ना पूछो कि मेरी मंजिल कहाँ है,अभी तो सफर का इरादा किया है,ना हारूंगा हौंसला उम्र भर,ये मैंने किसी से नहीं खुद से वादा किया है…

मुश्किलों से भाग जाना आसान होता है,हर पहलू जिंदगी का इम्तिहान होता है,डरने वालों को मिलता नहीं कुछ ज़िदगी में,लड़ने वालों के कदमों में जहान होता है

पहचान ही ना पाए खुद की काबिलयत को,दूसरो की उम्मीदों पर खरा उतरते-उतरते।

Kabiliyat Shayari Status

Kabiliyat Shayari In Hindi With Images
Kabiliyat Shayari In Hindi With Images
लाख दलदल हो, पाँव जमाए रखिये,हाथ खाली ही सही, ऊपर उठाये रखिये,कौन कहता है छलनी में, पानी रूक नही सकता,बर्फ बन्ने तक, हौसला बनाये रखिये…

जो मुस्कुरा रहा है उसे दर्द ने पाला होगा,जो चल रहा है उसके पाँव में छाला होगा,बिना संघर्ष के इन्सान चमक नही सकता,जो जलेगा उसी दिये में तो उजाला होगा…

Kabiliyat Shayari

ज़िन्दगी लहर थी और हम साहिल हो गए ,ना जाने कैसे ऐ-ज़िन्दगी !हम तेरे काबिल हो गए।

जो मुस्कुरा रहा है उसे दर्द ने पाला होगा,जो चल रहा है उसके पाँव में छाला होगा,बिना संघर्ष के इन्सान चमक नही सकता,जो जलेगा उसी दिये में तो उजाला होगा…

डर मुझे भी लगा फ़ासला देख कर,लेकिन मैं बढ़ता गया रास्ता देखकर,खुद-ब-खुद मेरे नजदीक आती गई,मेरी मंजिल, मेरा हौसला देखकर…

अक्सर वो इंसान खुद से रूठ जाता है ,जो दूसरो को मनाने की,बेशुमार काबिलयत रखता है।

डर मुझे भी लगा फ़ासला देख कर,लेकिन मैं बढ़ता गया रास्ता देखकर,खुद-ब-खुद मेरे नजदीक आती गई,मेरी मंजिल, मेरा हौसला देखकर…

Kabiliyat Shayari

ज़िन्दगी में एक बात हमेशा याद रखना,हमें तब तक कोई हरा नहीं सकता,जब तक हम खुद से न हार जाये…

मेरी काबिलियत पर मुझे पूरा शक था,कि ये बस एक मौके की तलाश में है।

होके मायूस ना आँगन से उखाड़ो ये पौधे,धूप बरसी है यहाँ तो बारिश भी यही पे होगी…

Kabiliyat Shayari Quotes

Kabiliyat Quotes in Hindi With Images
Kabiliyat Quotes in Hindi With Images
मंज़िले हमारे करीब से गुज़रती गयी जनाब,और हम औरो को रास्ता दिखाने में ही रह गये…

किसी झूठी सिफारिश की ज़रूरत नहीं मुझे,मैं अपनी कलम ,अपने हुनर पर यकीन रखता हूँ।

धार के विपरीत जाकर देखिये,जिन्दगी को आजमा कर देखिये,आंधियाँ खुद मोड़ लेंगी रास्ता,एक दीपक तो जला कर देखिये…

जिन्दगी में सफलता पाने के लिए,थोड़ा जोखिम उठाना पड़ता है,सीढ़ियाँ चढ़ते समय ऊपर जाने के लिए,नीचे की सीढ़ी से पैर हटाना पड़ता है…

Kabiliyat Shayari

हालात के मारे होते है कुछ लोग,वरना काबिलियत तो सबमे होती है।

जिन्दगी में सफलता पाने के लिए,थोड़ा जोखिम उठाना पड़ता है,सीढ़ियाँ चढ़ते समय ऊपर जाने के लिए,नीचे की सीढ़ी से पैर हटाना पड़ता है…

देखते हैं ये जिंदगी हमें कब तक भटकाएगीकिसी दिन तो कोशिशें हमारी रंग लाएंगी,उस रोज हम आराम से बैठेंगे अपने कमरे मेंऔर कामयाबी बाहर खड़ी दरवाजा खटखटाएगी…

कागज़ अपनी किस्मत से उड़ता है,लेकिन पतंग अपनी काबिलियत से,इसलिए किस्मत साथ दे या ना दे,पर काबिलियत ज़रूर साथ देती है।

Kabiliyat Shayari

सफलता एक चुनौती है इसे स्वीकार करो,क्या कमी रह गई देखो और सुधार करो,कुछ किए बिना ही जय जयकार नहीं होती,कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती…

कामयाबी के सफ़र में मुश्किलें तो आएँगी ही,परेशानियाँ दिखाकर तुमको तो डराएंगी ही,चलते रहना कि कदम रुकने ना पायें,अरे मौत से क्या डरना एक दिन तो आएगी ही…